• micro-blog
  • WechatWechat QR code

  >  News trends  >  Guangdong highlights

स्रोत: Nanfang Daily Online Edition     time: 2021-09-21 10:54:39

★ yabo official site at www.22bet99.com; easy to remember URL is www.99bet99.com ,क्‍या अभी सोने में निवेश करने में समझदारी है?

  


  

  क्‍या अभी सोने में निवेश करने में समझदारी है?

सोना नई ऊंचाइयां छू रहा है. इसके पीछे कई कारण हैं.
सोने में रिकॉर्ड तेजी आने के बाद निवेशक इसमें निवेश को लेकर उत्‍साहित हैं. वे अपने-अपने फाइनेंशियल एडवाइजर से इस बारे में पूछ रहे हैं. दिल्‍ली स्थित फाइनेंशियल प्‍लानिंग फर्म पीxजी कंसल्‍टेंट्स के डायरेक्‍टर गौरव मूंगटा को भी अपने क्‍लाइंट्स की कॉल आ रही हैं. खुद गौरव से जानते हैं कि उनके सवाल क्‍या होते हैं और वह इन सवालों का क्‍या जवाब दे रहे हैं.

क्‍या सवाल पूछ रहे हैं क्‍लाइंट?
1. क्‍या हमें गोल्‍ड में निवेश करना चाहिए?
2. क्‍या गोल्‍ड में आवंटन को बढ़ाने के लिए ज्‍यादा गोल्‍ड ज्‍वेलरी खरीदनी चाहिए?
3. क्‍या गोल्‍ड बॉन्‍ड से फिजिकल गोल्‍ड बेहतर है?
4. गोल्‍ड ईटीएफ के फायदे और नुकसान क्‍या हैं?
5. क्‍या सोने की कीमतों में तेजी बनी रहेगी?
6. अभी सोने में निवेश का फैसला कैसे लें?

इसे भी पढ़ें : क्या आपको डबल-डिजिट रिटर्न वाले म्‍यूचुअल फंडों की तलाश है? यहां देखिए लिस्‍ट

जानिए मूंगटा ने इन सवालों के क्या जवाब दिए हैं
सोना नई ऊंचाइयां छू रहा है. इसके पीछे कई कारण हैं. कोविड-19 की महामारी, अमेरिका-चीन के रिश्‍तों में तनातनी, आर्थिक रिकवरी को लेकर अनिश्चितता प्रमुख वजहें हैं. इनके चलते सोने में तेजी को रफ्तार मिली है.

चूंकि सोने ने अन्‍य एसेट क्‍लास के मुकाबले बहुत ज्‍यादा रिटर्न दिया है. इसलिए निवेशकों की इसमें दिलचस्‍पी बढ़ गई है. बतौर एसेट क्‍लास किसी निवेशक के पोर्टफोलियो में सोने की जगह बनती है. इसकी एक वजह इनमें ज्‍यादा लिक्विडिटी का होना और दूसरी यह है कि इन्‍हें लंबे समय त‍क बनाए रखने से महंगाई से बचने में मदद मिलती है. निश्चित तौर पर छोटे निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो का कुछ हिस्‍सा इनमें एलोकेट करना चाहिए. अपने देश में सोने की बहुत ज्‍यादा खपत होती है. कारण है कि इसे तोहफे में देने का रिवाज है.

शुद्ध निवेश के लिहाज से सोने में अपने पोर्टफोलियो का करीब 5 फीसदी निवेश किया जा सकता है. हालांकि, निवेश की केवल यह वजह नहीं होनी चाहिए कि इसने हाल में बहुत अच्‍छा रिटर्न दिया है. ऐसा इसलिए है क्‍योंकि पहले कई बार देखा जा चुका है कि सोने में अचानक तेजी के बाद इसकी कीमतों में स्थिरता आ गई.

इस तरह अगर सोने में समय के साथ धीरे-धीरे निवेश किया जाए तो निश्चित ही निवेशक को उसका फायदा मिलेगा. किसी एसेट क्‍लास में कम रिटर्न के दौर में निवेश करना बेहद महत्‍वपूर्ण है. इससे उस एसेट क्‍लास का औसत रिटर्न अच्‍छा हो जाता है.

इसे भी पढ़ें : पेट्रोनेट के शेयरों में क्‍यों निवेश की सलाह दे रहे हैं विश्‍लेषक?

ऐसे में मौजूदा स्थिति में भी अगर गोल्‍ड में किसी ने पर्याप्‍त निवेश नहीं किया है तो वह इसमें पैसा लगा सकता है. लेकिन, यह प्रक्रिया आगे भी जारी रहनी चाहिए जब इसके दामों में स्थिरता आ जाए.

जहां तक टैक्‍ट‍िकल कॉल (मौके का फायदा उठाने का फैसला) का सवाल है तो सोने की कीमतों में अभी तेजी बनी रह सकती है. कारण है कि कोविड-19 के चलते अनिश्चितता के बादल छाए हुए हैं. लंबी अवधि में सोने में निवेश करने के लिए यहां कुछ विकल्‍प बताए जा रहे हैं:

1. फिजिकल गोल्‍ड (ज्‍वेलरी नहीं) - सोने में निवेश का यह पारंपरिक तरीका है. इस तरह के निवेश में मुख्‍य चुनौती सोने की शुद्धता और स्‍टोरेज की है. लंबी अवधि में शायद आप काफी अधिक लॉकर चार्ज दे दें. चोरी होने का डर भी खतरा है.

2. गोल्‍ड एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड - यह फिजिकल गोल्‍ड का विकल्‍प है. लेकिन, इसे वित्‍तीय रूप से रखा जा सकता है. इस तरह इसमें क्‍वालिटी या स्‍टोरेज की चिंता की जरूरत नहीं होती है. हालांकि, ईटीएफ को बेचने के लिए आपके पास डीमैट अकाउंट होना चाहिए. इन्‍हें एक्‍सचेंज पर ही बेचा जा सकता है.

3. गोल्‍ड म्‍यूचुअल फंड - ईटीएफ और फंड में अंतर होल्‍ड‍िंग के तरीके को लेकर है. जहां ईटीएफ के मामले में इसे सीधे डीमैट खाते में रख सकते हैं. वहीं, म्‍यूचुअल फंड इसे आगे ईटीएफ में लगाते हैं. हालांकि, म्‍यूचुअल फंडों के मामले में ट्रांजेक्‍शन आसान होता है. अगर आपको पैसे की जरूरत होती है तो आपको बस रिडेम्‍पशन रिक्‍वेस्‍ट देने की जरूरत पड़ती है.

4. सॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍ड - इन इश्‍यू को सरकार लॉन्‍च करती है. सोने में निवेश का यह आकर्षक तरीका है. इन बॉन्‍डों में सोने की कीमतों के इतर सुनिश्चित ब्‍याज दर का फायदा मिलता है. हालांकि, इनमें कुछ लॉक-इन अवधि होती है. इस तरह म्‍यूचुअल फंड जितनी लिक्विडिटी नहीं होती है.

इस तरह अगर आपके के लिए लिक्विडिटी महत्‍वपूर्ण है तो ईटीएफ और गोल्‍ड फंड सोने में निवेश के अच्‍छे विकल्‍प हैं. वरना सॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍ड के जरिये सोने में निवेश किया जा सकता है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

सोने में न‍िवेशगोल्‍डसोने में रिकॉर्ड तेजीसॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍डगोल्‍ड ईटीएफ

ETPrime stories of the day

What does it take to buy the Maharaja? Ratan Tata’s best men are looking beneath Air India’s iceberg
Aviation

What does it take to buy the Maharaja? Ratan Tata’s best men are looking beneath Air India’s iceberg

18 mins read
The long chase of NFRA to book DHFL auditors Chaturvedi & Shah
Corporate Affairs

The long chase of NFRA to book DHFL auditors Chaturvedi & Shah

13 mins read
Why companies from US, UK, Chile, Japan, et al. want India as the captive hub to take them digital
Digital economy

Why companies from US, UK, Chile, Japan, et al. want India as the captive hub to take them digital

10 mins read


Relevant reports:रुपये में तीन सत्रों से जारी गिरावट थमी, 10 पैसे बढ़कर 73.50 रुपये प्रति डॉलर पर हुआ बंद
Relevant reports:एक साल में 15% बढ़ा ओला और उबर का किराया
Relevant reports:अप्रेंटिसशिप के जरिये इस साल सात लाख युवा होंगे जॉब के लिए तैयार
Relevant reports:TCS इस साल 28000 स्टूडेंट्स को देगी नौकरी, 3 साल में सबसे ज्यादा
Relevant reports:बदलाव पसंद नहीं करने वाले कर्मचारियों से निपटने के ये हैं 4 तरीके
Relevant reports:म्‍यूचुअल फंड के बारे में क्‍या आपको भी हैं ये 8 कनफ्यूजन?
Relevant reports:रिलायंस जियो ऑफर : नए जियोफाई डिवाइस पर 5 महीने फ्री डेटा
Relevant reports:घर बनाने की सोच रहे हैं तो जल्दी कीजिए, बढ़ने वाली है सीमेंट की कीमत
Relevant reports:जियो गीगाफाइबर के लिए आप भी ऐसे करा सकते हैं रजिस्ट्रेशन

【font:large in Small
प्रतिलिपि अधिकार: दक्षिण न्यूज नेटवर्कगुआनडोंग आईसीपी तैयार 05070829 website identification code 4400000131
Sponsor: नान्फांग न्यूज़र नेटवर्क co sponsor: Guangdong Provincial Economic and Information Technology Commission contractor: Nanfang news network
1024 is recommended × Browser with 768 resolution above IE7.0